Friday, November 27, 2020
Home ताज़ातरीन Union Minister Jitendra Singh Says Government Male Employees Also As Single Guardians...

Union Minister Jitendra Singh Says Government Male Employees Also As Single Guardians Child Care Will Be Entitled To Leave: – एकल अभिभावक के तौर पर सरकारी पुरुष कर्मी भी चाइल्ड केयर लीव ले सकेंगे

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह (फाइल फोटो)
– फोटो : एएनआई

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने सोमवार को कहा कि सरकारी पुरुष कर्मचारी जो एकल अभिभावक हैं, अब वे भी बाल देखभाल अवकाश (चाइल्ड केयर लीव) के हकदार होंगे। उन्होंने कहा कि एकल पुरुष अभिभावक में वे सभी कर्मचारी आएंगे जो अविवाहित या विधुर या तलाकशुदा हैं और जिनके एक बच्चे की जिम्मेदारी अकेले उठाने की उम्मीद हो।  

उन्होंने इसे उल्लेखनीय और सुधारवादी कदम करार दिया। उन्होंने कहा कि इससे सरकारी कर्मचारियों का जीवन आसान बनेगा। उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में फैसला कुछ समय पहले ही जारी किया जा चुका है लेकिन इसे सार्वजनिक मंचों पर प्रमुखता नहीं मिली। कार्मिक राज्यमंत्री ने कहा कि बाल देखभाल अवकाश पर कर्मचारी अब संबंधित प्राधिकारी की पूर्व अनुमति से मुख्यालय छोड़ सकेगा।

साथ ही कर्मचारी बाल देखभाल अवकाश पर होने पर भी लीव ट्रैवल कंसेशन (एलटीसी) का लाभ उठा सकेगा। उन्होंने कहा कि पहले 365 दिन के लिए बाल देखभाल अवकाश छुट्टी वेतन का 100 फीसदी तक मंजूर की जा सकती है और अगले 365 दिन के लिए छुट्टी वेतन की 80 फीसदी हो सकती है।

सिंह ने कहा कि इनपुट के आधार पर दिव्यांग बच्चों के मामलों में 22 साल की उम्र तक बाल देखभाल अवकाश की शर्त को हटा दिया गया है। अब सरकारी कर्मचारी दिव्यांग बच्चे के लिए बाल देखभाल अवकाश किसी भी उम्र तक ले सकते हैं।

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने सोमवार को कहा कि सरकारी पुरुष कर्मचारी जो एकल अभिभावक हैं, अब वे भी बाल देखभाल अवकाश (चाइल्ड केयर लीव) के हकदार होंगे। उन्होंने कहा कि एकल पुरुष अभिभावक में वे सभी कर्मचारी आएंगे जो अविवाहित या विधुर या तलाकशुदा हैं और जिनके एक बच्चे की जिम्मेदारी अकेले उठाने की उम्मीद हो।  

उन्होंने इसे उल्लेखनीय और सुधारवादी कदम करार दिया। उन्होंने कहा कि इससे सरकारी कर्मचारियों का जीवन आसान बनेगा। उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में फैसला कुछ समय पहले ही जारी किया जा चुका है लेकिन इसे सार्वजनिक मंचों पर प्रमुखता नहीं मिली। कार्मिक राज्यमंत्री ने कहा कि बाल देखभाल अवकाश पर कर्मचारी अब संबंधित प्राधिकारी की पूर्व अनुमति से मुख्यालय छोड़ सकेगा।

साथ ही कर्मचारी बाल देखभाल अवकाश पर होने पर भी लीव ट्रैवल कंसेशन (एलटीसी) का लाभ उठा सकेगा। उन्होंने कहा कि पहले 365 दिन के लिए बाल देखभाल अवकाश छुट्टी वेतन का 100 फीसदी तक मंजूर की जा सकती है और अगले 365 दिन के लिए छुट्टी वेतन की 80 फीसदी हो सकती है।

सिंह ने कहा कि इनपुट के आधार पर दिव्यांग बच्चों के मामलों में 22 साल की उम्र तक बाल देखभाल अवकाश की शर्त को हटा दिया गया है। अब सरकारी कर्मचारी दिव्यांग बच्चे के लिए बाल देखभाल अवकाश किसी भी उम्र तक ले सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Business news News : बर्गर किंग का आईपीओ दो दिसंबर को खुलेगा, बोली का दायरा 59-60 रुपये प्रति शेयर – burger king’s ipo to...

डिसक्लेमर:यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।भाषा | Updated: 27 Nov 2020,...

men’s Blazer on amazon: Men’s Blazer On Amazon : वेडिंग सीजन में Amazon दे रहा Men’s Blazer पर खास डिस्काउंट, जल्दी करें ऑर्डर –...

शादियों के सीजन में पुरुषों को पहनने के लिए Blazer एवरग्रीन ऑप्शन रहता है। खास तौर पर ठंडी के मौसम में अगर किसी की...

यूपी-बिहार को जोड़ने वाले सिक्सलेन कर्मनाशा पुल की मरम्मत पूरी, कराई लोड टेस्टिंग

यूपी-बिहार बार्डर पर कर्मनाशा पुल का एक सप्ताह पहले ही मरम्मत कार्य पूरा हो चुका है। पुल का गुरुवार को लोड टेस्टिंग शुरू किया...

Two protesters entered the ground during India Australia ODI – भारत आस्ट्रेलिया वनडे के दौरान मैदान पर दो प्रदर्शनकारी घुसे

सिडनी: भारत और आस्ट्रेलिया के बीच पहले एक दिवसीय क्रिकेट मैच के दौरान यहां शुक्रवार को दो प्रदर्शनकारी सुरक्षा घेरे को तोड़कर मैदान में...

Recent Comments