Monday, April 12, 2021
Home बिज़नेस कमाएं-बचाएं mutual fund: A corpus of crores can be made in a mutual...

mutual fund: A corpus of crores can be made in a mutual fund with SIP

विशेषज्ञ बताते हैं कि अगर आप एक अच्छे निवेशक (Good Investor) हैं तो आपको रेग्युलर निवेश (Regular Investment) करते रहना चाहिए। आप चाहें तो सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (Systematic Invest Plan) के जरिए इसे कर सकते हैं। लंबी अवधि में यही निवेश आपको करोड़पति बना सकता है। हमने ऊपर जो उदाहरण दिया है, उसमें कोई निवेशक यदि 18 वर्षों तक Mutual Fund में 10 हजार रुपए महीने का SIP किया होगा, तभी यह रकम (Corpus) इतनी बन पाई।

एक साल में 61.6 फीसदी का रिटर्न

म्यूचुल फंड बाजार (Mutual Fund Market) से जुड़े आंकड़े बताते हैं कि 5 अप्रैल के आधार पर आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल मल्टी असेट फंड ने 1 साल में 61.6 फीसदी का रिटर्न दिया है। जबकि इसी समय में एचडीएफसी मल्टी असेट फंड (HDFC Multi Asset Fund) ने 55 फीसदी और एक्सिस ट्रिपल एडवांटेज फंड (Axis Triple Advantage Fund ) ने 53 फीसदी का रिटर्न दिया है। आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल मल्टी असेट फंड (ICICI Prudential Multi Asset Fund) को 2002 में लांच किया गया था।

कहां होता है निवेश

आंकड़ों के मुताबिक, मल्टी असेट फंड योजना में इकट्ठा हुई राशि का 10 से 80 फीसदी तक हिस्से का निवेश इक्विटी में करते हैं। जबकि डेट में 10 से 35 और गोल्ड ETF में 10 से 35 और रिट तथा इनविट में 0 से 10 फीसदी तक का निवेश करते हैं। इस तरह की रणनीति इसलिए बनाई जाती है ताकि तमाम असेट क्लासेस में निवेश कर निवेशकों को फायदा पहुंचाया जाए। इसमें इक्विटी में निवेश से फायदा मिलता है और गोल्ड तथा अन्य के जरिए स्थिरता मिलती है। इस कैटिगरी में आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल टॉप प्रदर्शन करने वालों में से है। एक साल के आधार पर इस कैटिगरी ने 42.44 फीसदी का रिटर्न दिया है। 3 साल में आईसीआईसीआई मल्टी फंड ने 10.04 और 5 साल में 14.8 फीसदी का रिटर्न दिया है। जबकि एचडीएफसी ने 5 साल में 9.82 और एक्सिस ट्रिपल ने 5 साल में 11 फीसदी का रिटर्न दिया है।

इक्विटी महंगा होने पर बदल जाती है रणनीति

इक्विटी के महंगे होने पर यह स्कीम ऑयल, गोल्ड, चांदी जैसी कमोडिटी में अपना निवेश बढ़ा देती है ताकि पोर्टफोलियो का रिटर्न अच्छा रहे। इस समय यह स्कीम इक्विटी में ज्यादा निवेश की है क्योंकि अर्थव्यवस्था में रिकवरी दिख रही है। 31 मार्च 2021 तक इसका इक्विटी में निवेश 77.7 फीसदी रहा है। यह इसकी अंतिम सीमा 80 फीसदी के करीब है। पिछले कुछ महीनों से यह पोर्टफोलियो वैल्यू थीम की ओर अपना झुकाव बनाए रखी है। आगे चलकर यह इसी तरह का पालन कर सकती है। इस स्कीम के चार प्रमुख सेक्टर्स में बैंक, पावर, टेलीकॉम और मेटल्स हैं।

इस समय शेयर बाजार में तेज बढ़त

भारतीय शेयर बाजार पिछले एक साल में तेजी से बढ़े हैं। यह इस समय दोगुने बढ़त के साथ कारोबार कर रहा है। हालांकि, इस समय भी इक्विटी का वैल्यूएशन सस्ता नहीं है। यह आगे चलकर काफी कुछ अर्थव्यवस्था पर निर्भर है जिसमें महंगाई, ब्याज दरें, वैक्सीन का रोल आउट, वैश्विक केंद्रीय बैंकों के फैसले आदि हैं। डेट की बात करें तो ब्याज दरें निकट समय में नीचे की ओर ही रह सकती हैं। ऐसे में डेट एक असेट क्लास के रूप में औसत रिटर्न दे सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

RBI, नीति आयोग और वित्त मंत्रालय 14 अप्रैल को करेगा बैंकों के निजीकरण पर चर्चा

सरकारी बैंकों के निजीकरण की तैयारी के तहत 14 अप्रैल को नीति आयोग, भारतीय रिजर्व बैंक और वित्त मंत्रालय के वित्तीय सेवाओं और आर्थिक...

mulayam singh yadav: क्या मुलायम के परिवार में सेंध लगाने में BJP कामयाब हो गई है? कमजोर पड़ती सियासी ताकत – did bjp successful...

हाइलाइट्स:BJP ने मुलायम की भतीजी को पंचायत चुनाव में कैंडिडेट बनाया है भाई शिवपाल और बहू अपर्णा की योगी से नजदीकी की चर्चाएं तेज...

एयरवे प्रेशर थेरेपी डिमेंशिया के इलाज में कारगर

एक नए अध्ययन में पाया गया है कि जिन वयस्कों को पॉजिटिव स्लीप एपनिया के लिए पॉजिटिव एयरवे प्रेशर थेरेपी मिली, उनमें अल्जाइमर रोग...

coronavirus uttar radesh: coron cases in kanpur prayagraj varanasi gorakhpur : यूपी में कोरोना वायरस के मामले

हाइलाइट्स:यूपी में कोरोना वायरस हो रहा बेकाबूलखनऊ में सबसे ज्यादा मरीज, दूसरे नंबर पर प्रयागराजवाराणसी और कानपुर का भी बुरा हाल, योगी सरकार ने...

Recent Comments