Wednesday, November 25, 2020
Home दुनिया साइंस न्यूज़ नासा ने चंद्रमा के सतह पर पानी की खोज की

नासा ने चंद्रमा के सतह पर पानी की खोज की

हाइलाइट्स:

  • नासा ने चंद्रमा की सतह पर पानी की मौजूदगी का पता लगाया
  • सूर्य की रोशनी पड़ने वाले इलाके में मिला पानी, मानव मिशन में होगा सहायक
  • 2024 तक चांद पर मानव बस्तियां बसाने की योजना बना रहा नासा

वॉशिंगटन
अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने चंद्रमा की सतह पर पानी की खोज की है। बड़ी बात यह है कि चंद्रमा की सतह पर यह पानी सूरज की किरणें पड़ने वाले इलाके में खोजी गई है। इस बड़ी खोज से न केवल चंद्रमा पर भविष्य में होने वाले मानव मिशन को बड़ी ताकत मिलेगी। बल्कि, इनका उपयोग पीने और रॉकेट ईंधन उत्पादन के लिए भी किया जा सकेगा। इस पानी की खोज नासा की स्ट्रेटोस्फियर ऑब्जरवेटरी फॉर इंफ्रारेड एस्ट्रोनॉमी (सोफिया) ने की है।

दक्षिणी गोलार्ध के क्रेटर में मिला पानी
सोफिया ने चंद्रमा के दक्षिणी गोलार्ध में स्थित,पृथ्वी से दिखाई देने वाले सबसे बड़े गड्ढों में से एक क्लेवियस क्रेटर में पानी के अणुओं (H2O) का पता लगाया है। पहले के हुए अध्ययनों में चंद्रमा की सतह पर हाइड्रोजन के कुछ रूप का पता चला था, लेकिन पानी और करीबी रिश्तेदार माने जाने वाले हाइड्रॉक्सिल (OH) की खोज नहीं हो सकी थी।

नासा ने कहा- पहले से मौजूद थे पानी के संकेत
वॉशिंगटन में नासा मुख्यालय में विज्ञान मिशन निदेशालय में एस्ट्रोफिजिक्स डिवीजन के निदेशक पॉल हर्ट्ज ने कहा कि हमारे पास पहले से संकेत थे कि H2O जिसे हम पानी के रूप में जानते हैं, वह चंद्रमा के सतह पर सूर्य की ओर मौजूद हो सकता है। अब हम जानते हैं कि यह वहां है। यह खोज चंद्रमा की सतह की हमारी समझ को चुनौती देती है। इससे हमें और गहन अंतरिक्ष अन्वेषण करने की प्रेरणा मिलती है।

सहारा रेगिस्तान में मौजूद पानी से 100 गुना कम है चांद पर पानी
नेचर एस्ट्रोनॉमी के नवीनतम अंक में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक, इस स्थान के डेटा से 100 से 412 पार्ट प्रति मिलियन की सांद्रता में पानी का पता चला है। तुलनात्मक रूप में सोफिया ने चंद्रमा की सतह पर जितनी पानी की खोज की है उसकी मात्रा अफ्रीका के सहारा रेगिस्तान में मौजूद पानी की तुलना में 100 गुना कम है। छोटी मात्रा के बावजूद यह खोज नए सवाल उठाती है कि चंद्रमा की सतह पर पानी कैसे बनता है। इससे भी बड़ा सवाल कि यह चंद्रमा के कठोर और वायुमंडलहीन वातावरण में कैसे बना रहता है।

चांद पर मानव बस्तियां बसाने की योजना बना रहा नासा
नासा की योजना चांद पर मानव बस्तियां बसाने की है। नासा पहले से ही आर्टेमिस (Artemis) प्रोग्राम के जरिए 2024 तक चांद की सतह पर मानव मिशन भेजने की तैयारी कर रही है। नासा अपने आर्टेमिस प्रोग्राम के जरिए चांद की सतह पर 2024 तक इंसानों को पहुंचाना चाहता है। इसके जरिए चांद की सतह पर मानव गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाएगा। चांद पर मौजूद इंसान उन क्षेत्रों का पता लगाएंगे जहां पहले कोई नहीं पहुंचा है या जो अबतक अछूते रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

महिलाओं को सिखाए आत्मरक्षा के गुर

पिंक बेल्ट मिशन द्वारा बुधवार को अंतरराष्ट्रीय महिला हिंसा उन्मूलन दिवस पर 60 से 70 महिलाओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाए गए। समाज में...

दिल्ली में किसानों की एंट्री होगी मुश्किल, पुलिस ने दी कानूनी कार्रवाई की चेतावनी

नई दिल्ली केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के विरोध में किसान संगठन गुरुवार को दिल्ली की तरफ कूच करेंगे। हरियाणा, पंजाब में बड़े...

बीज के 51 प्रतिष्ठानों पर की गई छापेमारी, जांच के लिए भेजे गए 46 नमूने

जिलाधिकारी के निर्देश पर बुधवार को जिले के चारो तहसीलों पर बीज के थोक व फुटकर दुकानों पर गहन छापेमारी किया गया। इस दौरान...

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे: बिना अधिग्रहण सड़क निर्माण का विरोध, किसानों ने रोका काम

आजमगढ़ के सठियांव में पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के लिंक रोड का निर्माण शुरू होने पर किसानों ने विरोध जताया। पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के निर्माण प्लांट...

Recent Comments